Intezaar and Aitbaar Punjabi Shayari

Zindagi Di Bhaal Ch Roj Marde Han, Oh Aave Ja Na, Assi Intezaar Karde Han,
Jhutha Hi Sahi Vaada Hai Mere Yaar Da,
Assi Sach Jaan Ke Aitbaar Karde Han…

हिंदी शायरी

वो भी शौकीन हैं इतने कि गूगल पर हमारी शायरी ढूंढते हैं,
उनको लगता है कि जज्बात भी बाजार में बिकते हैं..!!

ख़ुशी का पल भी आएगा एक दिन…
ग़म भी तो मिल रहे हैं
बिना तम्मना किये…!

Next

Leave a Reply