Har raat diye ki roshani se saja rakhi h

Har raat diye ki roshani se saja rakhi h.
Humne hwa se bhi shart laga rakhi h.
Na jane ab tum guzro ge kaha se.
Hum ne her gali pholoo se saja rakhi h.
हर रात की रौशनी से सजा रख्खी  है, हमने हवा से भी शरत लगा रख्खी है, न जाने अब तुम गुजरोगे कहां से, हमने हर गली फूलों से सजा रख्खी है

NEXT

Leave a Reply