लाख समझाया उसको : hindi shayri

लाख समझाया उसको कि दुनिया शक करती है,,,
मगर उसकी आदत नहीं गयी मुस्कुरा कर गुजरने की…


उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो;
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो;
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है;
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो।
smiley-next
 


snapdeal-offers

Leave a Reply