दर्द शायरी

दर्द होता है मगर शिकवा नहीं करते,
कौन कहता है की हम वफा नही करते,
आखिर क्युँ नहीं बदलती तकदीर “आशिक” की
क्या मुझको चाहने वाले मेरे लिए दुआ नहीं करते
***********

आप  बेवफा  होंगे  सोचा  ही  नहीं  था   !
आप भी  कभी  खफा  होंगे  सोचा नहीं  था !!
जो  गीत  लिखे  थे  कभी  प्यार  पर  तेरे !!!
वही  गीत  रुसवा  होंगे  सोचा  ही  नहीं  था !!!!

************

Read more